बागवानी

चंडीगढ़ शहर बहुत अच्छी तरह से विकसित और रखरखाव गार्डन और ग्रीन बेल्ट है। नगर निगम ने इसके गठन के बाद सेक्टर 36 में सुगंध गार्डन विकसित किया है, सेक्टर 16 में शांति कुंज, गार्डन ऑफ एनाउल्स, सेक्टर 44, ग्रीन बेल्ट सेक्टर 30, 15, 38 और 40. इन गार्डन और ग्रीन बेल्ट का निवासियों द्वारा आनंद लिया जाता है सुबह और शाम चलता है। इन गार्डन और ग्रीन बेल्ट के रखरखाव के मानकों को उपर्युक्त तस्वीरों से अच्छी तरह से कल्पना की जा सकती है। निगम ने रेलिंग और बच्चों को उपकरणों के खेल के जरिए आवासीय क्षेत्रों में लगभग 400 पार्क विकसित किए हैं। इनमें से कई पार्क एमपीएलएडी योजना के तहत सदस्य संसद द्वारा प्रदान किए गए धन से बाहर किए गए हैं। निगम ने पुनर्वास कॉलोनियों में पार्कों के विकास में गहरी दिलचस्पी दिखाई है। बापू धाम कॉलोनी में ग्रीन बेल्ट को रेलिंग, बच्चों को बजाने वाले बच्चों और छायादार और सजावटी पेड़ों की बढ़ोतरी करके 3 एकड़ के क्षेत्र में विकसित किया गया है। 4 एकड़ के क्षेत्र में राम दरबार कॉलोनी में एक कैक्टस पार्क विकसित किया गया है। निगम पौधे और उनके विकास के वृक्षारोपण में भी गहरी दिलचस्पी ले रहा है। हर साल शहर में 15000 से अधिक पेड़ लगाए जाते हैं। शहर में उगाए जाने वाले विभिन्न प्रकार के पेड़ अमाल्टस, अशोक, नीम, सैपियम सेबिफरम, पिपल, नीलगिरी, पिलखान, आम, सिल्वर ओक इत्यादि हैं। नगर निगम के गठन से पहले अनचाहे खरपतवार / कांग्रेस घास को हटाने के लिए केवल दो चक्रों काटने के लिए लिया गया था। निगम ने काटने की व्यवस्था को मशीनीकृत किया और अब कटिंग के छह चक्रों को लिया जा रहा है।

अंतिम संशोधित तिथि : 30-10-2018
आखरी अपडेट: 03/08/2018 - 18:15
शीर्ष पर वापस जाएँ